तमाम रुकावटों के बाद फ़ाइनली खत्म हुई Alia Bhatt की Gangubai Kathiawadi की शूटिंग, Sanjay leela Bhansali ने ली राहत की सांस

तमाम रुकावटों के बाद फ़ाइनली खत्म हुई Alia Bhatt की Gangubai Kathiawadi की शूटिंग, Sanjay leela Bhansali ने ली राहत की सांस

हिंदी सिनेमा के दिग्गज फ़िल्ममेकर Sanjay leela Bhansali ने फ़ाइनली अब राहत की सांस ली है । क्योंकि उनकी महत्वाकांक्षी बहुप्रतिक्षित फ़िल्म Gangubai Kathiawadi की शूटिंग अब पूरी हो चुकी है । तमाम रुकावटों के बाद फ़ाइनली Alia Bhatt अभिनीत गैंगस्टर ड्रामा Gangubai Kathiawadi की शूटिंग खत्म हो गई है ।

Sanjay leela Bhansali ने खत्म की Gangubai Kathiawadi की शूटिंग

पिछले दो सालों से चल रही Gangubai Kathiawadi की शूटिंग के बारें में बात करते हुए Bhansali ने कहा, “हमने 27 दिसंबर 2019 Gangubai Kathiawadi की शूटिंग शुरू की थी । इसके बाद मार्च 2020 में हमें कोरोना के कारण शूटिंग रोकनी पड़ी थी । पहले हम अक्टूबर 2020 को फ़िल्म रिलीज करने वाले थे । अब फ़ाइनली हमने 26 जून को शूटिंग खत्म कर दी है ।”

तो क्या राज कपूर, वी शांताराम, डेविड लीन और बाज लुहरमन सहित सिनेमा के महानतम लोगों की तुलना में Bhansali के लिए गंग़ूबाई को शूट करना सबसे कठिन साबित हुआ ?

मेरी हर एक फिल्म अपने हिस्से की मुश्किल लेकर आती है

इसके जवाब में Bhansali ने कहा, “मुझे नहीं पता कि यह सबसे कठिन थी या नहीं । क्योंकि मेरी हर एक फिल्म अपने हिस्से की मुश्किल लेकर आती है ।” Bhansali ने माना कि पद्मावत की शूटिंग भी उन्होंने तमाम विरोधों के बीच पूरी की थी । पद्मावत की शूटिंग के दौरान Bhansali पर कुछ वर्ग समूहों द्दारा आरोप लगाए गए कि वह राजपूतों के इतिहास के साथ छेड़छाड़ कर रहे हैं इस वजह से उन्हें पद्मावत की शूटिंग के दौरान तमाम तरह के आरोपों और विरोधों को झेलना पड़ा ।

बाधाएं मुझे और मजबूत बनाती हैं

पद्मावत के दौरान अपने खिलाफ हुए हिंसक विरोध को याद करते हुए Bhansali ने कहा, “वो सब बहुत मुश्किलों भरा था । इस सब के बीच, मैं अपनी माँ के बारे में अधिक चिंतित था और खुश था कि वह मेरे साथ थी । मुझे नहीं पता कि मैं उनके बिना कैसे यह सब सहन कर पाता । वह कहती रही, ‘मेरे बेटे के साथ ऐसा क्यों हो रहा है ? वो इतनी अच्छी फिल्में बनाता है ।’ उस वक्त मेरी मां मेरी ताकत थीं और आज भी हैं ।”

एक फ़िल्ममेकर के रूप में आने वाली बाधाओं को Bhansali अपने लिए सकारात्मक तरीके से लेते हैं क्योंकि उनका मानना है कि इससे उन्हें एक बेहतर फ़िल्ममेकर बनने में मदद मिलती है । इस बारें में Bhansali ने कहा, “कभी-कभी मुझे लगता है कि एक व्यक्ति और फिल्म निर्माता के रूप में ये बाधाएं मुझे और मजबूत बनाती हैं ।

हर बार जब मेरी अंडरप्रोडक्शन फिल्म पर हमला हुआ तो मैंने अपने दर्द और पीड़ा को बेहतर काम करने के लिए एक प्रोत्साहन के रूप में इस्तेमाल किया । Gangubai काठियावाड़ी के शूटिंग शेड्यूल के साथ कोविड ने जो कहर बरपाया, उस दौरान मैंने अपनी सारी चिंता को एक सही आकार देने में लगाया । मुझे लगता है कि दुख हमेशा मेरी रचनात्मकता के लिए एक प्रोत्साहन रहा है ।”