Javed Akhtar ने Kangana Ranaut पर लगाए चौंकाने वाले आरोप, मुश्किल में ‘क्वीन’

Javed Akhtar ने Kangana Ranaut पर लगाए चौंकाने वाले आरोप, मुश्किल में ‘क्वीन’

बॉलीवुड गीतकार Javed Akhtar ने आरोप लगाया है कि एक्ट्रेस Kangana Ranaut (Kangana Ranaut) के वकील ने 28 जून को जानबूझकर बॉम्बे हाईकोर्ट (BOMBAY HIGH COURT) में उनके पासपोर्ट को रिन्यू करने के लिए अपने पक्ष में आदेश प्राप्त करने के लिए एक भ्रामक बयान दिया. Akhtar ने अब कोर्ट में Kangana के खिलाफ हस्तक्षेप की अर्जी दाखिल की है.

क्यों लगाया आरोप

इस आवेदन में, Javed Akhtar  ने कहा कि नवंबर 2020 में एक टीवी इंटरव्यू के दौरान Kangana Ranaut  के बारे में उनकी टिप्पणी को लेकर उनके खिलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत दर्ज की थी. उन्होंने कहा कि एक्ट्रेस के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही अब भी लंबित है.

Javed ने लगाया ये आरोप

आवेदन के एक अंश में कहा गया है, ‘मैजिस्ट्रेट की अदालत, अंधेरी के समक्ष लंबित आपराधिक मामले (Javed Akhtar की शिकायत) की जानकारी के बावजूद, याचिकाकर्ता नंबर 1 (Kangana Ranaut) ने जानबूझकर गुमराह करने के इरादे से पासपोर्ट को लेकर अपने पक्ष में आदेश प्राप्त किया. ‘

Javed ने की ऐसी मांग

Akhtar ने बॉलीवुड एक्ट्रेस द्वारा दायर रिट याचिका में हस्तक्षेप करने की मांग की, जिन्होंने एक लेखक के कॉपीराइट का कथित रूप से उल्लंघन करने के लिए उनके खिलाफ जर्द एक FIR को चुनौती दी है.

क्या है पूरा मामला

बता दें कि Kangana पिछले महीने से अपने पासपोर्ट को रिन्यू कराने की कोशिश कर रही हैं ताकि वह एक फिल्म की शूटिंग के लिए हंगरी के बुडापेस्ट जा सकें, लेकिन प्राधिकरण उनके खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों का हवाला देते हुए रिन्यूअल में देरी कर रहा था.

28 जून को इस आवेदन पर सुनवाई के दौरान पासपोर्ट प्राधिकरण की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने उच्च न्यायालय को बताया कि Kangana की याचिका अस्पष्ट थी और यह स्पष्ट नहीं किया कि उनके खिलाफ कौन सी आपराधिक कार्यवाही लंबित है. जस्टिस एसएस शिंदे की अगुवाई वाली बेंच को ‘क्वीन’ एक्ट्रेस के वकील ने बताया कि उनके खिलाफ केवल दो FIR दर्ज की गई थी लेकिन इनमें आपराधिक कार्यवाही अभी तक शुरू नहीं हुई थी.

किन दो FIR का हुआ जिक्र

वकील के अनुसार, बांद्रा पुलिस ने पहली FIR पिछले साल अक्टूबर में ‘अपने ट्वीट के जरिए धार्मिक मतभेद को बढ़ावा देने के लिए दर्ज की थी और दूसरी प्राथमिकी इस साल मार्च में दर्ज की गई थी. यह ‘दिद्दा: वारियर क्वीन ऑफ कश्मीर’ पुस्तक के लेखक ने आरोप लगाया था कि Kangana ने उनकी अनुमति के बिना पुस्तक के विषय पर एक फिल्म की घोषणा की.