Indira Gandhi की ‘Emergency’ पर फिल्म बनाएंगी Kangana Ranaut , प्रयागराज का दौरा करेंगी, सियास बवाल शुरू

Indira Gandhi की ‘Emergency’ पर फिल्म बनाएंगी Kangana Ranaut , प्रयागराज का दौरा करेंगी, सियास बवाल शुरू

अपने दमदार अभिनय के साथ ही विवादित बयानों की वजह से भी अक्सर सुर्ख़ियों में रहने वाली चर्चित फिल्म अभिनेत्री Kangana Ranaut अब पूर्व प्रधानमंत्री Indira Gandhi द्वारा 46 साल पहले देश में लगाई गई Emergency पर फिल्म बनाने जा रही हैं. Emergency नाम की इस फ़िल्म में वह न सिर्फ Indira Gandhi का किरदार निभाएंगी, बल्कि उसका डायरेक्शन भी खुद ही करेंगी. Indira के किरदार को करीब से जानने व फिल्म को बेहतरीन बनाने की नीयत से Kangana अगले महीने उनकी जन्मस्थली और कर्मभूमि संगम नगरी प्रयागराज आने वाली हैं.

Kangana की इस फिल्म और प्रयागराज के प्रस्तावित दौरे पर सियासी विवाद छिड़ गया है. इस मामले को लेकर बीजेपी और कांग्रेस आमने-सामने आ गई हैं. कांग्रेस Kangana पर बीजेपी के एजेंट के तौर पर काम करते हुए उन पर Emergency फिल्म के बहाने Indira Gandhi को बदनाम करने की साजिश रचने का आरोप लगा रही है

तो दूसरी तरफ बीजेपी यह सवाल खड़े कर रही है कि Indira के नाम पर इतराने वाली कांग्रेस उन्हीं के द्वारा लगाई गई Emergency का जिक्र छिड़ते ही तिलमिला क्यों जाती है. कांग्रेस ने Kangana को प्रयागराज में घुसने नहीं देने का एलान किया है, तो वहीं बीजेपी ताल ठोंककर यह दावा कर रही है कि राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित देश की बेटी Kangana को योगी सरकार के क़ानून के राज में कोई भी प्रयागराज आने से जबरन रोक नहीं सकता.

Kangana की यह फिल्म सिल्वर स्क्रीन पर क्या गुल खिलाएगी, इसका फैसला तो वक़्त करेगा, लेकिन उनके प्रयागराज दौरे से पहले ही Emergency फिल्म को लेकर सियासी गलियारों में घमासान ज़रूर मच गया है. Indira की सरजमीं से लेकर Emergency लगने का सबब बनने वाली संगम नगरी प्रयागराज में मचा सियासी कोहराम आने वाले दिनों में लखनऊ और दिल्ली से लेकर माया नगरी मुम्बई तक फ़ैल सकता है.

वैसे Emergency फिल्म और प्रयागराज दौरे के बहाने Kangana पर पार्टी विशेष के ज़ख्मों पर नमक छिड़ककर किसी को खुश करने के जो सियासी आरोप लग रहे हैं, उसे पूरी तरह नकारा भी नहीं जा सकता, क्योंकि यह नामचीन अदाकारा सियासत में न रहते हुए भी परदे के पीछे से सियासी तीर छोड़कर अक्सर ही राजनीतिक महाभारत मचाने में माहिर मानी जाती है.

चर्चित फिल्म अभिनेत्री Kangana Ranaut नारी प्रधान फिल्मों और रुपहले परदे पर अलग व सशक्त किरदार निभाने के लिए जानी जाती हैं. झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के जीवन पर आधारित फिल्म मणिकर्णिका इसका जीता -जागता उदाहरण है.

मणिकर्णिका में Kangana ने न सिर्फ लीड रोल किया था, बल्कि वह उसकी डायरेक्टर भी थीं. Kangana Ranaut ने जब पिछले दिनों यह एलान किया कि वह पूर्व प्रधानमंत्री Indira Gandhi की बायोपिक पर बनने जा रही एक फिल्म में आयरन लेडी यानी Indira का किरदार निभाएंगी तो किसी को हैरत नहीं हुई.

लेकिन, करीब महीने भर पहले जब उन्होंने फिल्म का नाम Emergency बताकर इसका डायरेक्शन भी खुद ही करने का दावा किया, तो फिल्म नगरी से लेकर सियासी गलियारों में कानाफूंसी शुरू हो गई. बाद में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के ज़रिये यह बात भी साफ़ हो गई कि Emergency फिल्म Indira Gandhi के पूरे जीवन पर नहीं, बल्कि सिर्फ प्रधानमंत्री रहते हुए 25 जून 1975 को उनके द्वारा देश में लगाए गए आपातकाल पर ही आधारित होगी तो चर्चाओं का बाजार गर्म होने लगा.

Kangana ने फिल्म की स्क्रिप्ट मशहूर लेखक रितेश शाह से तैयार कराई है

इस बीच Kangana ने फेसबुक से लेकर इंस्टाग्राम और कू तक पर Indira का किरदार निभाने की तैयारियों के लिए किये जा रहे मेकअप की कुछ तस्वीरों के साथ यह दावा भी कर डाला कि इमजरेंसी फिल्म का डायरेक्शन उनसे बेहतर कोई दूसरा कर ही नहीं सकता. Kangana ने फिल्म की स्क्रिप्ट मशहूर लेखक रितेश शाह से तैयार करा है.Emergency फिल्म को लेकर Kangana ने उत्साह दिखाते हुए दावा किया था कि अगर इस फिल्म को पूरा करने के लिए उन्हें कुछ दूसरे प्रोजेक्ट्स छोड़ने भी पड़ेंगे तो वह उसके लिए तैयार रहेंगी.

बहरहाल फिल्म शुरू होने से पहले ही Kangana खेमे से यह खबर आई है कि Indira के किरदार और Emergency के हालात को और बेहतर तरीके से समझने के लिए वह जल्द ही संगम नगरी प्रयागराज आने वाली हैं. उस प्रयागराज में जहां Indira Gandhi का जन्म हुआ, जहां वह पली-बढ़ीं, जहां उन्होंने सियासत की एबीसीडी सीखी, जहां वानर सेना बनाकर उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंका, जहां उनका ब्याह हुआ और जहां उन्होंने अपने पिता के चुनाव की कमान संभाली थी.

Kangana उस प्रयागराज में आएंगी जो देश में Emergency लगाने का सबब बना, जहां के हाईकोर्ट के फैसले की वजह से देश में पहली और आख़िरी बार आपातकाल लगा, जहां रहने वाले जज का निर्णय देश में Emergency लगाने की वजह बना और जहां आनंद भवन व स्वराज भवन के रूप में Indira का पुश्तैनी घर आज भी आबाद नज़र आता है.

Kangana Ranaut के प्रस्तावित प्रयागराज दौरे को हिट कराने और इस बहाने सियासी सरगर्मी बढाकर फिल्म को ज़्यादा से ज़्यादा पब्लिसिटी दिलाने की ज़िम्मेदारी इवेंट मैनेजमेंट की एक कंपनी को दी गई है. इवेंट कंपनी के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ Kangana का 25 अगस्त के आस पास दो दिनों के लिए प्रयागराज आने का कार्यक्रम बन रहा है.

प्रयागराज में Emergency के नाम पर नये विवादों को जन्म देने और सुर्खियां बटोरने के बाद वह एक दिन के लिए पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी जाकर वहां बाबा विश्वनाथ के दरबार में माथा भी भी टेक सकती हैं. तैयारियों के मुताबिक़ प्रयागराज के दो दिनों के दौरे में Kangana Ranaut Indira की जन्म स्थली से लेकर उनके विवाह स्थल, स्कूल और घर को देख सकती है. Indira के साथ वक़्त बिताने वाले कुछ लोगों से मुलाक़ात कर सकती हैं.

जिस इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले की वजह से Indira ने देश में Emergency लगाई थी, उसका दीदार कर सकती हैं. Indira के खिलाफ फैसला देने वाले हाईकोर्ट के दिवंगत जज जस्टिस जगमोहन लाल सिन्हा के परिवार वालों से मुलाकात कर सकती हैं. इतिहास की प्रोफ़ेसर रहीं प्रयागराज से बीजेपी की एक महिला सांसद के घर जा सकती हैं.

इसके अलावा संगम जाकर वहां के पवित्र गंगाजल से आचमन करने, काफी हाउस में काफी की चुस्कियां लेने और एक नामी आईटी संस्थान में स्टूडेंट्स से रूबरू होकर उनसे संवाद भी कर सकती हैं. विवादों और विरोध से बचने के लिए प्रयागराज के बजाय वाराणसी में फिल्म Emergency को लेकर मीडिया से मुखातिब हो सकती हैं.

Kangana द्वारा Indira Gandhi की Emergency के फैसले पर फिल्म बनाए जाने के फैसले से कांग्रेस पार्टी पहले ही तिलमिलाई हुई थी. इस तिलमिलाहट की बड़ी वजह यूपी विधानसभा चुनाव के ठीक पहले Kangana द्वारा Indira के व्यक्तित्व में काला अध्याय साबित होने वाले Emergency पर फिल्म बनाकर उनके चरित्र का हनन करने की कोशिश है. ऐसे में कांग्रेसियों को जैसे ही Kangana के प्रयागराज दौरे की सुगबुगाहट मिली है, वह और तल्ख़ हो गए हैं.

यूपी कांग्रेस के पूर्व प्रवक्ता बाबा अभय अवस्थी ने तो Kangana को सीधे तौर पर बीजेपी का एजेंट बता डाला. उन्होंने कहा कि बीजेपी के नेता Indira के विराट व्यक्तित्व पर खुद कोई सवाल खड़े करने की हैसियत में नहीं है, इसलिए वह Kangana को सामने रखकर Indira को बदनाम करने की साजिश रच रहे हैं.

बाबा अभय अवस्थी समेत कांग्रेस के दूसरे नेताओं ने Emergency फिल्म और Kangana के प्रस्तावित प्रयागराज दौरे का पुरजोर विरोध करने की बात कही है. कांग्रेस नेताओं का कहना है कि उनकी पार्टी और पूर्व नेता Indira के खिलाफ एजेंडा चलाने वाली Kangana को प्रयागराज में घुसने नहीं दिया जाएगा.

कांग्रेस नेताओं के इस तल्ख़ रवैये पर बीजेपी ने हैरानी जताई

कांग्रेस नेताओं के इस तल्ख़ रवैये पर बीजेपी ने हैरानी जताई है. बीजेपी नेता आशीष गुप्ता का कहना है कि प्रियंका वाड्रा समेत जो कांग्रेसी Indira के नाम पर इतराते हैं, वह उन्ही के द्वारा लगाई गई Emergency का जिक्र होते ही बौखलाने क्यों लगते हैं. आशीष गुप्ता का कहना है कि मर्यादा में रहते हुए लोकतांत्रिक विरोध अपनी जगह है, लेकिन Kangana देश की बेटी है. वह राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता है, ऐसे में योगी सरकार के क़ानून के राज में कोई भी उनकी तरफ आंख उठाकर नहीं देख सकता.

इतिहास और राजनीति के जानकार भी देश की पहली महिला प्रधानमंत्री Indira Gandhi की शख्सियत का लोहा मानते हैं. वरिष्ठ पत्रकार रतन दीक्षित का कहना है कि Indira Gandhi अपने जमाने में देश ही नहीं बल्कि दुनिया की ताकतवर महिलाओं में गिनी जाती थीं. राजनीति में उन्होंने अपना अलग मुकाम बनाया था. वह राजनीतिक तौर पर जितनी परिपक्व थीं, उतनी ही निर्भीक व त्वरित फैसले लेने वाली भी थीं.

रतन दीक्षित के मुताबिक़ पाकिस्तान के दो टुकड़े कराकर Indira ने इतिहास रच दिया था. हालांकि वह भी यह मानते हैं कि Indira के विराट व्यक्तित्व में Emergency का फैसला एक ऐसे काले साये की तरह है, जो उनके इतिहास के पन्नों में अमर होने के बावजूद उनका पीछा छोड़ने को कतई तैयार नहीं है.

प्रयागराज के मिजाज़ को बेहतरीन तरीके से समझने वाले सोशल वर्कर अरुण पाठक का मानना है कि Emergency लगाने का Indira का फैसला भले ही विवादित रहा हो, लेकिन इस एक फैसले भर से Indira के व्यक्तित्व को कतई कटघरे में नहीं खड़ा किया जा सकता. उनके मुताबिक़ जिस Indira के नाम की तूती पूरी दुनिया में बोलती थी, उनके किरदार में कमी निकालने के लिए Kangana Ranaut का फिल्म बनाना कतई सही नहीं है.

Kangana का विवादों से पुराना नाता है

वैसे फिल्म इंडस्ट्रीज से जुड़े हुए लोग Kangana के Emergency फिल्म बनाने, फिल्म में लीड रोल और डायरेक्शन खुद करने और फिल्म व Indira के जीवन के पहलुओं को समझने के लिए उनके संगम नगरी प्रयागराज आने के फैसले पर कतई हैरान नहीं हैं. फ़िल्मी पत्रिका फिल्म स्क्रीन के सम्पादक और इंडस्ट्री से जुड़े गीतकार एम.

गुलरेज़ के मुताबिक़ Kangana हमेशा कुछ अलग करने में भरोसा करती हैं. नारी प्रधान फिल्मों के किरदार को वह शिद्दत से निभाती हैं. अपने किरदार में डूबकर एक्टिंग करने के लिए वह न सिर्फ खूब मेहनत करती हैं, बल्कि क्रिएटर बनकर भी सामने आती हैं.

हालांकि एम. गुलरेज़ यह भी मानने से गुरेज़ नहीं करते कि Kangana का विवादों से पुराना नाता है. उन्हें सुर्खियां बटोरना बखूबी आता है. ऐसे में Kangana द्वारा विवाद को बढ़ाकर खुद और फिल्म को पब्लिसिटी दिलाने की संभावना से कतई इंकार नहीं किया जा सकता.

Indira Gandhi के देश में Emergency लगाने की कहानी भी बेहद दिलचस्प है. दरअसल, Indira Gandhi के खिलाफ रायबरेली से चुनाव हारने वाले समाजवादी नेता राज नारायण से चुनाव नतीजे को इलाहाबाद हाईकोर्ट में चुनौती दी थी. हाईकोर्ट में इस मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस जगमोहन लाल सिन्हा की बेंच ने Indira Gandhi को न सिर्फ कोर्ट में तलब कर लिया था, बल्कि उनके निर्वाचन को भी रद्द कर दिया था. कोर्ट के इस फैसले के बाद सरकार पर सियासी संकट आने से ही Indira ने देश में Emergency लगाने का फैसला किया था.

Kangana का सियासत से सीधे तौर पर कोई वास्ता नहीं है

वैसे तो Kangana का सियासत से सीधे तौर पर कोई वास्ता नहीं है, लेकिन कभी परदे के पीछे से तो कभी इशारो में सियासी तीर चलाने का मौका वह कभी छोड़ती भी नहीं हैं. वह जितनी बेहतरीन अदाकारा हैं, उससे कम परख उन्हें सियासत की नहीं है. बीजेपी की सियासी पिच पर बैटिंग करना उन्हें ज़्यादा रास आता है. महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली सरकार और उसमे शामिल पार्टियों को उन्होंने कई बार परेशान किया है.

कहा जा सकता है कि फिल्म इंडस्ट्री Kangana का पैसन है तो सियासत उनकी मंज़िल. यूपी में विधानसभा के चुनाव जल्द होने वाले हैं, ऐसे में Kangana Ranaut के प्रयागराज और वाराणसी दौरे को फिल्म के साथ ही सियासी चश्मे से देखना कतई गलत भी नहीं होगा.

अब देखने वाली बात यह होगी कि Kangana का दौरा और उनकी Emergency फिल्म कांग्रेस पार्टी को कितनी चोट देती है और बीजेपी के पक्ष में किस तरह का माहौल बनाती है. जो कुछ भी होगा, वह भविष्य के गर्भ में है, लेकिन यह ज़रूर कहा जा सकता है कि एक बेहद विवादित विषय को उठाकर Kangana Ranaut सुर्खियां बटोरते हुए अपना उल्लू साधने में ज़रूर कामयाब होती नज़र आ रही हैं.